है.

जिन्दगी ये किस मोड पे ले आयी है,
ना मा, बाप, बहन, ना यहा कोई भाई है.
हर लडकी का है Boy Friend, हर लडके ने Girl Friend पायी है,
चंद दिनो के है ये रिश्ते, फिर वही रुसवायी है.

घर जाना Home Sickness कहलाता है,
पर Girl Friend से मिलने को टाईम रोज मिल जाता है.
दो दिन से नही पुछा मां की तबीयत का हाल,
Girl Friend से पल-पल की खबर पायी है,
जिन्दगी ये किस मोड पे ले आयी है…..

कभी खुली हवा मे घुमते थे,
अब AC की आदत लगायी है.
धुप हमसे सहन नही होती,
हर कोई देता यही दुहाई है.

मेहनत के काम हम करते नही,
इसीलिये Gym जाने की नौबत आयी है.
McDonalds, PizaaHut जाने लगे,
दाल-रोटी तो मुश्कील से खायी है.
जिन्दगी ये किस मोड पे ले आयी है…..

Work Relation हमने बडाये,
पर दोस्तो की संख्या घटायी है.
Professional ने की है तरक्की,
Social ने मुंह की खायी है.
जिन्दगी ये किस मोड पे ले आयी

Advertisements

3 Responses to है.

  1. घर जाना Home Sickness कहलाता है,
    पर Girl Friend से मिलने को टाईम रोज मिल जाता है.
    दो दिन से नही पुछा मां की तबीयत का हाल,
    Girl Friend से पल-पल की खबर पायी है,
    जिन्दगी ये किस मोड पे ले आयी है…..

    सटीक, रोचक और यथार्थ। सुंदरतम। बहुत ही बढ़िया लिखते हैं आप। समाज का असली चेहरा बयान कर दिया है आपने। बधाई। लिखते रहें।

  2. Pradip Brahmbhatt કહે છે:

    Dear Friend,
    Jay Jalaram.
    It ie very good poem. This the reality of the american life.
    Congratulation.

    Pradip Brahmbhatt
    (Houston)
    Pradipkumar.wordpress.com

  3. jayeshupadhyaya કહે છે:

    જીવનલક્ષી નહી પણ જીવીકાલક્ષી અભીગમ આ માટે જવાબદાર છે

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  બદલો )

Connecting to %s

%d bloggers like this: